रविवार, 13 मार्च 2011

जापान की त्रासदी-हमारे लिये भविष्य की चेतावनी

Fukushima Nuclear plant

हमारे बडे बडे नगर और उनका विकास भी समुद्र के किनारे ही किया जा रहा है.आणविक बिजली घरों की भी स्थापना भी उन नगरों के राजनीतिक दबाब के साथ किया जा रहा है,जहां स्थापना होती है,वहां के निवासियों की आवाज भी दर किनार कर दी जाती है.
जापान तो हमेशा ही इन परिस्थितियों का सामना करने के लिये तैयार रहता था,लेकिन वह भी प्रकति के इस प्रकोप से न बच सका.ह तो नदियों की बाढ को ही प्रकोप मानते हैं,और उसकी भी तैयारी पिछले साठ सालों से ही लगातार होती रहती है,लेकिन बाढ आने पर सब व्यवस्था धरी रह जाती है.
एन सुनामी आया था ,उसके दर्द को हम आज तके नही भूले.भूकंप गुजरात, महाराष्ट्र आये,लोगों की आँसू आज भी बह रहे हैं,हम उन को आज भी स्थापित नहीं कर पाये,और दिये गये,अनुदान-दान-राहत को भी पी गये.
यदि भविष्य में,जापान जैसी विपदा,गुजरात ,महाराष्ट्र,केरल,चेन्नई, मे आती है,तब शायद हम फ़िर से एक गरीब देश हो जायेंगे,जैसा कि जापान कहता है कि अब उसे पचास साल लगेंगे,पुरानी व्यव्स्थाओं को स्थापित करने में.
हमे एक बार सोचना होगा कि,आगे अब विकास की गति कहाँ और कैसे बढायी जाय.
परिमाणु संचालित बिजली घर कहाँ स्थापित किये जायें,पर्यावरण विभाग को योजना बनानी होगी.
हम मानवों को उस त्रासदी से कैसे सुरक्षित कर पायेंगे.

3 टिप्‍पणियां:

  1. Your blog is great你的部落格真好!!If you like, come back and visit mine: http://b2322858.blogspot.com/ Thank you!!Wang Han Pin(王翰彬)From Taichung,Taiwan(台灣)

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब यह कहना गलत होगा कि हम जापान की स्थितिसे सुरक्षित हैं. प्रकृति की कथा अनिश्चित है.हम कल्पनाओं के सागर से अलग सोचें.हमे अपने मानवों के जीवन की हर हालत मे सुरक्षित रखना है.
    हमें एक होना पडेगा,

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी पोस्ट, शुभकामना, मैं सभी धर्मो को सम्मान देता हूँ, जिस तरह मुसलमान अपने धर्म के प्रति समर्पित है, उसी तरह हिन्दू भी समर्पित है. यदि समाज में प्रेम,आपसी सौहार्द और समरसता लानी है तो सभी के भावनाओ का सम्मान करना होगा.
    यहाँ भी आये. और अपने विचार अवश्य व्यक्त करें ताकि धार्मिक विवादों पर अंकुश लगाया जा सके., हो सके तो फालोवर बनकर हमारा हौसला भी बढ़ाएं.
    मुस्लिम ब्लोगर यह बताएं क्या यह पोस्ट हिन्दुओ के भावनाओ पर कुठाराघात नहीं करती.

    उत्तर देंहटाएं